Latest SSC jobs   »   52वां विश्व पृथ्वी दिवस 2022 :...

52वां विश्व पृथ्वी दिवस 2022 : 22 अप्रैल

World Earth Day

पर्यावरण संरक्षण में समर्थन बढ़ाने के लिए 22 अप्रैल को पूरे विश्व में पृथ्वी दिवस मनाया जाता है। पृथ्वी दिवस पहली बार 1970 में मनाया गया था। 22 अप्रैल 2022 को विश्व पृथ्वी दिवस के 52 साल पूरे हो गए हैं। लोग पृथ्वी दिवस को विभिन्न गतिविधियों जैसे वृक्षारोपण, जागरूकता बढ़ाने आदि का आयोजन करके मनाते हैं। पर्यावरण संरक्षण के लिए समर्थन प्रदर्शित करने के लिए दुनिया भर में कई कार्यक्रम और अभियान आयोजित किए जा रहे हैं।

जलवायु परिवर्तन अब बहुत खतरनाक हो गया है. गूगल ने डूडल के जरिए इसकी व्याख्या की है. Google डूडल, Google अर्थ टाइमलैप्स की रीयल टाइम-लैप्स इमेजरी है, जो विभिन्न क्षेत्रों में जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को प्रदर्शित करता है. डूडल अफ्रीका में माउंट किलिमंजारो के शिखर पर ग्लेशियर रिट्रीट, ग्रीनलैंड में सेर्मर्सूक ग्लेशियर रिट्रीट, ऑस्ट्रेलिया में ग्रेट बैरियर रीफ और जर्मनी में हार्ज़ फ़ॉरेस्ट की वास्तविक इमेजरी की मदद से जलवायु संकट के प्रभाव को दिखाता है.

World Earth Day 2022 theme

2022 के पृथ्वी दिवस की थीम “Invest in your Planet” है। जलवायु परिवर्तन मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा है। हम इस वर्ष होने वाली घटनाओं जैसे कि ऑस्ट्रेलियाई बुश फायर आदि से प्रकृति पर हो रहे नुकसान को देख सकते हैं।

“We must act decisively to protect our planet from both the coronavirus and the existential threat of climate disruption.” – UN Secretary-General António Guterres

52nd Earth Day

पृथ्वी हमें जैविक विविधता प्रदान करती है और विभिन्न प्रजातियों को विभिन्न कारकों से बचाती है. मनुष्य के रूप में, यह हमारा आज का दिन है कि हम पृथ्वी का पोषण करें और इसे नष्ट होने से बचाएं. ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन मानवता के लिए खतरा बन रहे हैं, यह उचित समय है कि हम पृथ्वी की रक्षा के प्रति जागरूक हों. आइए 52वें पृथ्वी दिवस पर पृथ्वी को मानव और अन्य जीवों के रहने के लिए एक बेहतर स्थान बनाने का संकल्प लें.

“Creation is not a property, which we can rule over at will; or, even less, is the property of only a few: Creation is a gift…a wonderful gift that God has given us, so that we care for it and we use it for the benefit of all, always with great respect and gratitude” (Pope Francis).

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *