जानिए प्लाज्मा थेरेपी क्या है,और कैसे संभव है इससे कोरोनावायरस का उपचार?

प्लाज्मा थेरेपी क्या है?

जैसा कि सबसे विकट महामारी में से एक COVID-19 के पूरी दुनिया को अपने आवेग में ले लिया है, देश घातक वायरस से निपटने के लिए जूझ रहे हैं। वैज्ञानिक नावेल कोरोनोवायरस से लड़ने की कोशिश कर रहे हैं और इसे हराने के तरीके तलाश रहे हैं।इस रोग के प्रभाव को कम करने के लिए विभिन्न चिकित्सा उपचारों का उपयोग किया जा रहा है। ऐसा ही एक उपचार, जिसे भारत तलाशने की कोशिश कर रहा है वह है कंवलसेंट प्लाज्मा थेरेपी।
अब, आप में से बहुत से लोग सोच रहे होंगे कि प्लाज्मा थेरेपी क्या है? क्या यह कोरोनावायरस का एक संभावित उपचार है? प्लाज्मा थेरेपी एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें प्रभावित मरीज के इलाज के लिए COVID-19 से जंग जीते मरीज के एंटीबॉडी का उपयोग किया जाता है। घातक वायरस से जंग जीते मरीज के रक्त का उपयोग वायरस से जूझ रहे रोगी के इलाज के लिए किया जाता है।

प्लाज्मा क्या है?

प्लाज्मा रक्त का पीला तरल भाग है और इसमें 55% रक्त होता है। इसमें एंजाइम, जल, नमक, अन्य प्रोटीन और एंटीबॉडी होते हैं। यह रक्त में परिवहन का कार्य करता है। यदि हम रक्त से आरबीसी(RBCs), डब्ल्यूबीसी(WBCs ) और प्लेटलेट निकालते हैं, तो जो शेष बचता है, वहीँ प्लाज्मा है।

प्लाज्मा थेरेपी कैसे कार्य करता है?

इस उपचार में, COVID-19 से स्वस्थ रोगी को अपने प्लाज्मा को दान करने के लिए कहा जाता है क्योंकि इसमें एंटीबॉडी होते हैं जो घातक वायरस से लड़ने की क्षमता उत्पन्न करते हैं। इस थेरेपी का उपयोग, उन लोगों को प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए भी किया जा सकता है जो इस वायरस से जंग लड़ रहे हैं।
संक्रमित व्यक्ति में एंटीबॉडी के प्रवेश करने के बाद, उस व्यक्ति का रक्त उस वायरस से लड़ना शुरू कर देगा। यह थेरेपी, बचाव के रूप में उपयोग किया जा सकता है, यह कोरोनोवायरस के इलाज की दवा नही है।

प्लाज्मा थेरेपी: एक आशा की किरण 

दिल्ली में 4 COVID-19 संक्रमित रोगियों पर किए गए परीक्षणों से उत्साहजनक परिणाम प्राप्त हुए है। प्लाज्मा थेरेपी से इलाज के बाद मरीजों की स्थिति बेहतर हुई। हालांकि, परिणाम सकारात्मक हैं लेकिन बड़े पैमाने पर चिकित्सा करने के लिए अधिक शोध की आवश्यकता है। प्लाज्मा थेरेपी को इलाज के रूप में घोषित करना जल्दबाजी होगी। इसके साथ, यह निश्चित रूप से राष्ट्र भर में कई लोगों के लिए आशा की एक किरण है।

पहले भी होता रहा है प्लाज्मा थेरेपी का इस्तेमाल

यह पहली बार नहीं है कि प्लाज्मा थेरेपी को वायरस का इलाज माना जा रहा है। इससे पहले, डब्ल्यूएचओ द्वारा 2014 में इबोला वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए सुझाव दिया गया था। 2015 में, प्लाज्मा थेरेपी के साथ मध्य पूर्व श्वसन सिंड्रोम (MERS) के इलाज के लिए एक प्रोटोकॉल स्थापित किया गया था। पहले भी इसके प्रयोग किए जा चुके हैं, लेकिन बड़े पैमाने पर इस उपचार के उपयोग का विश्लेषण किया जाना बाकी है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *