Access to All SSC Exams Courses Buy Now
Home Articles जानिए, इतिहास में 24 मार्च के दिन क्या हुआ था?

जानिए, इतिहास में 24 मार्च के दिन क्या हुआ था?

इतिहास में 24 मार्च को क्या हुआ था, इतिहास में हुई महत्वपूर्ण घटनाओं की सूचीं देखें

0
356

24 मार्च इतिहास में एक दिन है जिसे अत्यधिक महत्व के दिन के रूप में माना जाता है। इस दिन को याद करने और हर साल इसे मनाए जाने के कई कारण हैं।इस दिन के वास्तविक महत्व को समझने के लिए, इसके कारणों को समझना आवश्यक है।

सत्य और न्याय के लिए याद किया जाने का दिन:-

इस दिन का अभिप्राय: 24 मार्च को अर्जेंटीना में डर्टी वारऔर उसके पीड़ितों को याद करने के लिए समर्पित दिन के रूप में मनाया जाता है। वर्ष 1976 में, अर्जेंटीना ने अपने अध्यक्ष इसाबेल पेरोन को हटा दिया और जिसके ठीक बाद, वर्ष 1983 में, देश में लोकतांत्रिक प्रक्रिया लागु हुई।

Prepare For SSC CGL Tier 2 Exam : Get Best Study Material Here

इस दिवस का महत्व :-1 अगस्त 2002 के दिन अर्जेंटीना नेशनल कांग्रेस ने डर्टी वॉर के स्मरणोत्सव को देखने के लिए कानून 25633 को मंजूरी दी। जबकि सार्वजनिक अवकाश, वर्ष 2006 से शुरू हुआ।

राष्ट्रीय वृक्षारोपण दिवस

इस दिवस का अभिप्राय: ऐसा लगता है कि प्रदूषण और अन्य मानव निर्मित प्राकृतिक आपदाओं की स्थितियों को दशकों पहले मान लिया गया था। इसलिए, 1800 के शुरुआती वर्षों में वृक्ष रोपण दिवस अस्तित्व में आया। युगांडा इस दिन को राष्ट्रीय वृक्षारोपण दिवस के रूप में मनाता है; और इस दिन को व्यक्तियों को पेड़ लगाने के लिए अवकाश दिया जाता है।

इस दिवस का महत्व: आज, पेड़ लगाने के महत्व को पूरी दुनिया ने समझा है। इसलिए, दुनिया भर के लगभग सभी देश एक विशिष्ट दिन को राष्ट्रीय वृक्षारोपण दिवस के रूप में मनाते हैं। आम तौर पर, यह एक ऐसी कार्यक्रम है, जो वसंत के मौसम में होता है। जलवायु के परिस्थितियों के अनुसार विभिन्न देशों में इसकी तिथियां अलग-अलग होती हैं।

साइंटोलॉजी स्टूडेंट डे

इस दिवस का अभिप्राय: जिस प्रकार अलग-अलग विषय को हम जानते है, साइंटोलॉजी भी एक विषय है, जो छात्रों को विभिन्न धार्मिक विश्वासों, तथ्यों और प्रथाओं के बारे में शिक्षित करता है।

इस दिवस का महत्त्व: इस दिन को छात्र दिवस के रूप में मनाया जाता है, आज ही के दिन 1961 में सेंट हिल स्पेशल ब्रीफिंग कोर्स की शुरुआत हुई थी। 

विश्व क्षयरोग दिवस / विश्व तपेदिक दिवस

इस दिवस का अभिप्राय: महामारी तपेदिक(टीबी) के खिलाफ जागरूकता फैलाने के लिए इस दिन को विश्व तपेदिक दिवस के रूप में मनाया जाता है। 24 मार्च 1882 को डॉ. रॉबर्ट कोच ने तपेदिक के कारणों की खोज की। 1982 में, तपेदिक और फेफड़े के रोग के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय संघ ने 24 मार्च को दुनिया भर में विश्व तपेदिक दिवस के रूप में मनाना प्रारंभ किया।

इस दिवस का महत्त्व : वर्ष 2012 में जब दुनिया भर में तपेदिक रोग के कारण लगभग 1.3 मिलियन लोग मारे गए थे। हालांकि विश्व तपेदिक दिवस 1982 के बाद से मनाया जाता है, इस प्रकोप के बाद, यह अब और भी अधिक गंभीरता से मनाया जाता है। यह विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा संचालित सबसे महत्वपूर्ण स्वास्थ्य अभियानों में से एक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here