SSC CGL टीयर 3 का परीक्षा विश्लेषण : यहां देखें टीयर 3 के परीक्षा विश्लेषण के साथ इसमें पूछे गए प्रश्न

SSC CGL टियर 3 परीक्षा विश्लेषण : कर्मचारी चयन आयोग ने 22 नवंबर 2020 को सफलतापूर्वक SSC CGL टियर 3 परीक्षा 2019 का आयोजन किया है। SSC CGL टायर 3 परीक्षा प्रकृति में वर्णनात्मक है और छात्रों को प्रश्न पत्र में दिए गए विषयों पर एक विस्तृत उत्तर लिखना होता है। SSC CGL टियर 3 परीक्षा, SSC CGL टियर 2 परीक्षा 2019 में उपस्थित होने वाले सभी उम्मीदवारों के लिए आयोजित किया गया था। SSC CGL टियर 1 2019 परीक्षा के कुल 1,25,279 उम्मीदवार SSC CGLटीयर 2 और 3 परीक्षा में उपस्थित होने के लिए योग्य घोषित किये गए थे। अब, SSC CGL टीयर 3 वर्णनात्मक परीक्षा समाप्त हो गई है। इस पोस्ट में आपको SSC CGL टियर 3 के विस्तृत परीक्षा विश्लेषण के साथ निबंध और पत्र लेखन में पूछे गए टॉपिक की जानकारी मिलेगी।

SSC CGL टियर 3 परीक्षा विश्लेषण:

SSC CGL टीयर 3 परीक्षा में 60 मिनट की दी गई अवधि में 100 अंकों के लिए निबंध लेखन, पत्र-लेखन और संक्षेपण(सार) लिखनी होती है। नीचे वर्णनात्मक पेपर का परीक्षा पैटर्न दिया गया है:
Tier Mode of Examination Scheme of Examination Maximum Marks Time Allotted
Tier III Pen and Paper
mode
Descriptive Paper in
English or Hindi
(Writing of Essay/ Precis/
Letter/ Application etc.)
100 60 Minutes
For VH/ OH (afflicted
with Cerebral Palsy/
deformity in writing
hand- 80 Minutes

SSC CGL टियर 3 परीक्षा विश्लेषण: परीक्षा में पूछे गए टॉपिक

SSC CGL टीयर 3 2019-20 परीक्षा आज आयोजित की गई थी। उम्मीदवारों को दिए गए विषय पर एक निबंध और एक पत्र लिखना था। एक विशेष रूप से डिज़ाइन की गई ब्लॉक शीट एस्पिरेंट्स को प्रदान की गई थी और उन्हें दिए गए शब्द सीमा में इसे लिखना था।

टीयर 3 में निबंध लेखन के लिए विषय था:

भारत में पर्यावरणीय प्रभाव आकलन का महत्व (250 शब्द)

SSC CGL टीयर 3 में संक्षेपण का विषय था:

इस वर्ष परीक्षा में प्रिसिस राइटिंग अर्थात् संक्षेपण पूछा गया था और कम्युनिकेशन पर एक पैराग्राफ दिया गया था- वक्ता और श्रोता के बीच कैसा संबंध होना चाहिए-(How the relationship between Speaker & audience should have)।

निबंध का विषय संक्षेपण (छात्रों को एक शीर्षक के साथ 90 शब्दों में संक्षेपण लिखना था)
भारत में पर्यावरणीय प्रभाव आकलन का महत्व (250 शब्द)                                                 अर्थात्

Importance of Environmental impact assessment in india (250 words)

वक्ता के गुण और दर्शकों के साथ उनके संबंधों पर एक पैराग्राफ दिया गया था। क्वालिटी वाले वक्ता के गुण तथा अच्छे और बुरे वक्ता के बीच अंतर दर्शाने में शब्द का काफी महत्त्व होता है इसलिए, वक्ता का गुण और दर्शकों पर पड़ने वाले इसके तत्काल प्रभाव से निर्धारित होता है।

अब, हम कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं को देखते हैं जिन्हें “भारत में पर्यावरणीय प्रभाव मूल्यांकन का महत्व” के निबंध में शामिल किया जाना चाहिए-

पर्यावरण प्रभाव आकलन (EIA) किसी भी परियोजना के संभावित पर्यावरणीय प्रभावों के मूल्यांकन के लिए लिया जाता है जिसका आंकलन विकास और सामाजिक-आर्थिक, सांस्कृतिक और मानव-स्वास्थ्य पर पड़ने वाले सकारात्मक या नकारात्मक प्रभावों के चरण में होता है।

EIA से, विकास परियोजनाओं की प्रारंभिक अवस्था में किसी भी तरह की समस्याओं और चुनौतियों का समाधान किया जा सकता है।

यह उन प्रभावों का विश्लेषण देता है जो किसी भी विकासात्मक गतिविधियों से पर्यावरण पर पड़ सकते हैं।

यह किसी भी जोखिम को कम करके निष्पादित करने की योजना को अंतिम रूप देने में मदद करता है।

यह विकासात्मक गतिविधियों के साथ-साथ इको-सिस्टम को स्थायित्व प्रदान करने में मदद करता है।

×

Download success!

Thanks for downloading the guide. For similar guides, free study material, quizzes, videos and job alerts you can download the Adda247 app from play store.

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×
Login
OR

Forgot Password?

×
Sign Up
OR
Forgot Password
Enter the email address associated with your account, and we'll email you an OTP to verify it's you.


Reset Password
Please enter the OTP sent to
/6


×
CHANGE PASSWORD