Latest SSC jobs   »   Seven Wonders of the World   »   Seven Wonders of the World

Seven Wonders of the World – दुनिया के नए सात अजूबे

दुनिया के नए सात अजूबे

आप सभी ने कभी न कभी दुनिया के सात अजूबों अर्थात Seven Wonders of the World के बारे में अवश्य सुना होगा जिनमें से आपने कुछ देखें भी होंगे. इन्हें सभी को दुनिया के सात अजूबे में इसलिए शामिल किया गया है क्योंकि यह Seven Wonders of the Ancient World सभी अपने आप में बहुत ही ख़ास हैं. इनके साथ कोई न कोई दिलचस्प कहानी या कोई न कोई रहस्य जुड़ा हुआ है.

Seven Wonders of the World in Hindi

लेकिन क्या आप सभी जानते हैं कि वर्ष 2007 में इन 7 अजूबों की एक नई सूची जारी की गई थी. पुराने 7 अजूबों में से कुछ इमारतों के टूटने-फूटने के कारण 2007 में करोडो लोगों के मतदान द्वारा दुनिया के नए सात अजूबों अर्थात New Seven Wonders of the World को चुना गया था. इस लेख में सभी seven wonders of the world information in Hindi की जानकारी प्रदान की है, तो इनकी संपूर्ण जानकारी के लिए दिए गए लेख को ध्यानपूर्वक पढ़ें.

  1. चीन की दीवार (चीन) :- चीन की दीवार अर्थात The Great Wall Of China के बारे में आप सभी ने कभी न कभी सुना ही होगा. इसे चीनी भाषा में वान ली चैंग चेंग के नाम से जाना जाता है जिसका शाब्दिक अर्थ “The 10,000-li Long Wall” है. इसका निर्माण 5वीं शताब्दी में शुरू हुआ और 16वीं शताब्दी में पूरा हुआ. इसे बनाने में 20-30 लाख श्रमिक लगे थे, जिनमें से 10 लाख श्रमिकों ने इसके निर्माण के दौरान अपनी जान गवा दी थी, जिन्हें दीवार में ही दफना दिया गया था, इसी कारण इसे दुनिया का सबसे बड़ा कब्रिस्तान भी कहा जाता है. यह दीवार 21,196 km लंबी है. इस दीवार की ऊंचाई अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग है कुछ जगहों पर यह लगभग 25 फीट और कुछ जगहों पर 46 फीट है. इसे वर्ष 1987 में UNESCO द्वारा विश्व विरासत स्थल में शामिल किया गया था.
  2. क्राइस्ट द रिडीमर स्टैच्यू (रियो डी जनेरियो):- यह जीसस क्राइस्ट की एक प्रतिमा है. यह ब्राज़ील के रियो डी जनेरियो में स्थित है. इस प्रतिमा की ऊंचाई 98 फीट है. इसका निर्माण 1922 में शुरू हुआ और 1931 को समाप्त हुआ.
  3. माचू पिच्चू (पेरू):- यह दक्षिण अमेरिका के पेरू में स्थित एक रहस्मय शहर है. यह शहर अपने आप में एक अजूबा है, क्योंकि यह लगभग 8000 फीट की ऊंचाई पर बसा हुआ एक वीरान शहर है. अलग-अलग लोग इसके बारे में अलग-अलग टिपण्णीयां करते हैं, जबकि पेरू के लोग इस स्थल को एक पवित्र स्थल मानते हैं. इसे वर्ष 1983 में UNESCO द्वारा विश्व धरोहर स्थल का दर्जा दिया गया था.
  4. चिचेन इत्जा (युकाटन प्रायद्वीप, मेक्सिको):- मेक्सिको में स्थित यह शहर अपने आप में बहुत ख़ास है, कहा जाता है की इसका इतहास 1200 वर्ष पुराना है और इसे माया सभ्यता वाले लोगों द्वारा बसाया गया था. यह वही सभ्यता है जिसके कैलेंडर के अनुसार 2012 में दुनिया के नष्ट होने की पुष्टि की गई थी. इस शहर के अंदर देखने के लिए कई आकर्षण केंद्र हैं. इनमें से एक पिरामिड एल कैस्टिलो है, यह एक चौकोर आधार वाला पिरामिड है, इसके प्रत्येक ओर  91 सीढियाँ हैं जो वर्ष के प्रत्येक दिन को दर्शाती हैं और इसके शीर्ष पर बना चबूतरा वर्ष के 365वें दिन को दर्शाता है. इसकी एक अन्य ख़ास बात यह है कि इस पिरामिड में अलग-अलग प्रकार की आवाज़े आती हैं, यदि आप इस पिरामिड के सीढ़ियों के ठीक सामने खड़े होकर ताली बजाते हैं, तो आपको इसके अंदर से चिड़िया की चहचहाहट जैसी आवाज़ आती है. इसके अलावा यहाँ आप चिचेन इत्जा के खंडरों को देख सकते हैं. इसे UNESCO द्वारा वर्ष 1988 में विश्व धरोहर स्थल में शामिल किया गया था.
  5. रोमन कालीज़ीयम (रोम):- इटली के रोम में स्थित यह जगह एक बहुत ही ख़ास पर्यटक स्थल है, इसका निर्माण 70-72वीं ईस्वी में शुरू किया गया जिसके बाद इसका निर्माण 80वीं ईस्वी में सम्राट टाइटस के शाशन काल में पूरा हुआ. कहा जाता है की इसमें योद्धा एकदूसरे के साथ व जंगली जानवारों के साथ युद्ध करके अपने कौशल का प्रदर्शन करते थे, इसमें लगभग 10 लाख योद्धा और करीब 5 लाख जानवर मारे गए थे. लेकिन आज के समय में यह बहुत ही मशहूर पर्यटक स्थल बन चुका है. हर साल देश-विदेश से लगभग 6 मिलियन लोग इसे देखने आते हैं. इसे वर्ष 1980 में UNESCO द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया था.
  6. ताज महल (आगरा, भारत):- भारत के आगरा में स्थित ताजमहल के बारे में आप सब जानते ही होंगे. इसका निर्माण 1632 में मुग़ल सम्राट शाहजहाँ द्वारा अपनी बेगम मुमताज़ की याद में बनाया गया था. यह यमुना नदी के तट पर स्थित है और इसे बनाने के लिए सफ़ेद मार्बल का इस्तेमाल क्या गया था. इसे बनाने के लिए 20,000 मजदूरों को रोजगार पर रखा गया था. कहा जाता है की इसके अंदर मुमताज की कब्र भी है, जिसके कारण इसे मुमताज़ का मकबरा भी कहा जाता है. इसे वर्ष 1982 में UNESCO द्वारा विश्व धरोहर स्थल के रूप में मान्यता दी गई थी.
  7. पेट्रा (जॉर्डन):- दुनिया के 7 नए अजूबों में से एक है पेट्रा. यह पत्थरों को तराश कर बनाई गई इमारतों के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है. यह ऐतिहासिक शहर जॉर्डन में स्थित हैयह शहर लाल चट्टानों पर बना है, चट्टानों के लाल रंग के कारण इसे रोज़ सिटी के नाम से भी जाना जाता है. यहाँ जाने के लिए आपको एक किलोमीटर लंबी संकीर्ण घाटी को पार करना पड़ता है, जिसके कारण इसके अंदर वाहनों को लेकर जाना प्रतिबंधित है और इसमें केवल ऊँट, घोड़ों और खच्चरों का प्रयोग किया जाता है. यह बहुत ही मशहूर पर्यटक स्थल है. वर्ष 1985 में UNESCO द्वारा विश्व धरोहर स्थल का दर्जा दिया गया था.

दुनिया के सात अजूबे

तो, मित्रों ये थी दुनिया के नए सात अजूबे अर्थात New Seven Wonders of the World से जुडी कुछ जानकारी. आशा करते हैं कि यह जानकारी आपको रोचक लगी होगी और आपकी परीक्षा की तैयारी में आपके लिए सहायक होगी. यदि आप सामान्य जागरूकता से जुड़े ऐसे अन्य लेखों को पढ़ना चाहते हैं तो hindi.sscadda.com के साथ जुड़े रहें. हम संदर्भ के लिए कुछ ऐसे ही लेखों का लिंक प्रदान कर रहे हैं, उन्हें भी अवश्य पढ़ें.

Seven Wonders of World in Hindi : FAQ

Q1. दुनिया के सात नए अजूबे क्या हैं?
Ans. दुनिया के 7 नए अजूबे निम्नलिखित हैं:

  1. चीन की दीवार
  2. क्राइस्ट द रिडीमर स्टैच्यू
  3. माचू पिच्चू
  4. चिचेन इत्जा
  5. रोमन कालीज़ीयम
  6. ताज महल
  7. पेट्रा

Q2. ताजमहल को UNESCO द्वारा विश्व धरोहर स्थल कब घोषित किया गया था?
Ans. वर्ष 1982 में ताजमहल को UNESCO द्वारा विश्व धरोहर स्थल के रूप में मान्यता दी गई थी.

Q3. रोमन कालीज़ीयम किस शहर में स्थित है?
Ans. यह इटली के रोम में स्थित है.

Q4. ताजमहल किस नदी के तट पर स्थित है?
Ans. ताजमहल यमुना नदी के तट पर स्थित है.

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *