पतंजलि ने कोरोनो वायरस के लिए आयुर्वेदिक इलाज की घोषणा की: विस्तार से देखें

पतंजलि आयुर्वेद ने COVID-19 के उपचार के लिए पहली आयुर्वेदिक दवा लॉन्च की है। योग गुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि ने देश भर में 280 मरीजों पर किए गए शोध और परीक्षणों के आधार पर विकसित “Coronil, Anu Taila और Swasari” नामक दवाइयाँ लॉन्च की हैं, पतंजलि के संस्थापक, योग शिक्षक रामदेव ने कहा। चिकित्सा पर अनुसंधान, पतंजलि अनुसंधान संस्थान, हरिद्वार और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (NIMS), जयपुर द्वारा संयुक्त रूप से किया गया है। आइए पतंजलि द्वारा लॉन्च की गई कोरोनिल और स्वासारी दवाओं के बारे में विस्तार से जानते हैं।

लॉन्च की गईं दवाएं

पतंजलि द्वारा लांच की गई ‘एंटी-कोविड किट’ में घातक कोरोनावायरस से निपटने और उससे बचने के लिए, आयुर्वेदिक दवायें और जड़ी बूटियाँ शामिल हैं। पतंजलि की एंटी-कोविड किट में 3 दवाएँ शामिल हैं, जैसे कि कोरोनिल टैबलेट, अनु तैला और स्वासारी वटी।

  • कोरोनिल

पतंजलि द्वारा लॉन्च की गई कोरोनिल एंटी-कोविड टैबलेट 3 से 15 दिनों के भीतर कोरोना पॉजिटिव रोगियों को ठीक करने का दावा करती है। NIMS विश्वविद्यालय, जयपुर में आयोजित नैदानिक नियंत्रण परीक्षणों के आधार पर, सभी कोरोना पॉजिटिव रोगी कोरोना निगेटिव हो गए और बिना किसी की मृत्यु के।

Covifor, Cipremi and Fabiflu: COVID-19 Medicines approved by DCGI

  • अनु तैला

अनु तैला एक हर्बल तेल है जिसे सिर, गर्दन, कंधों, आंख, नाक, कान, त्वचा, गले और बालों पर लगाया जा सकता है ताकि लगाए गए एरिया में दर्द और लक्षणों से तुरंत राहत मिल सके। यह संवेदी अंगों के काम को बेहतर बनाने में भी मदद करता है।

  • स्वासारी वटी

स्वासारि वटी में 100 से अधिक सक्रिय यौगिक, फाइटोकेमिकल्स और फाइटोमेटाबोलाइट्स होते हैं, जो खाँसी, सर्दी और छाती में जमा हुई कफ जैसी श्वसन समस्याओं से तुरंत राहत प्रदान करते हैं। यह श्वसन पथ को ठीक करने और पोषण करने में भी मदद करती है।

Click here to get the best study material for SSC CGL Tier 2 Exam 

सामग्री

आचार्य बालकृष्ण के अनुसार दवा में इस्तेमाल होने वाले आयुर्वेदिक तत्वों में अश्वगंधा, गिलोय और तुलसी का उपयोग किया गया है। उन्होंने कहा, “कोरोनिल में 100 से अधिक यौगिकों का उपयोग किया गया है”। इसके लिए एक पूरी किट बनाई जा रही है जिसमें अन्य आयुर्वेदिक दवाएँ भी हैं जो प्रतिरक्षा में मदद करती हैं।

आयुर्वेदिक सामग्री आंतरिक प्रतिरक्षा को बढ़ाने तथा बुखार, सर्दी एवं खांसी सहित अन्य लक्षणों से लड़ने में मदद करती है।

मूल्य

कोरोना किट सिर्फ 545 रुपये में उपलब्ध कराई जायेगी। पतंजलि के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि यह किट 30 दिनों के लिए है। गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले लोगों को मुफ्त में दवाइयां दी जाएंगी।

SSC Calendar 2020

UPSC Calendar 2020

खुराक

पतंजलि द्वारा निर्धारित दवाई के पर्चे के अनुसार, भोजन के 30 मिनट बाद 2-2 गोलियों का सेवन गर्म पानी के साथ किया जाना चाहिए। उपरोक्त दवा का सेवन और मात्रा, 15 से 80 वर्ष की आयु के लोगों के लिए उपयुक्त है। 6 से 14 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए निर्दिष्ट मात्रा की आधी मात्रा का उपयोग किया जा सकता है।

Download SBI SO 2020 Notification

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *