Latest SSC jobs   »   Lumpy Skin Disease in India

Lumpy Skin Disease in India की पूरी जानकारी

भारत में ढेलेदार त्वचा रोग

गुजरात और राजस्थान जैसे राज्य ढेलेदार/गांठदार त्वचा रोग (एलएसडी) के प्रकोप से जूझ रहे हैं, जो मवेशियों का एक वायरल संक्रमण है। यह पंजाब, हिमाचल प्रदेश, अंडमान और निकोबार और उत्तराखंड सहित अन्य राज्यों में भी फैल गया है।

ढेलेदार त्वचा रोग के बारे में

ढेलेदार त्वचा रोग ‘गांठदार त्वचा रोग वायरस’ (एलएसडीवी) के कारण होता है, जो कैप्रिपॉक्स वायरस जीनस का एक वायरस है। शीपपॉक्स वायरस और गोटपॉक्स वायरस कैप्रिपॉक्स वायरस जीनस के अन्य सदस्य हैं। एलएसडीवी मुख्य रूप से मवेशियों – गाय और उसकी संतानों और एशियाई जल भैंसों को प्रभावित करता है।

खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) की 2021 की रिपोर्ट के अनुसार, कई वर्षों के अंतराल में महामारी में ढेलेदार त्वचा रोग का प्रकोप होता है। वायरस के लिए एक विशिष्ट कोश का अस्तित्व ज्ञात नहीं है, और न ही यह ज्ञात है कि महामारी के बीच वायरस कैसे और कहाँ जीवित रहता है।

ढेलेदार त्वचा रोग का फैलाव

एलएसडीवी रक्त-चूसने वाले रोगवाहकों जैसे टिक्स और माइट्स जैसे घरेलू मक्खियों, मच्छरों आदि से फैलता है। यह दूषित पानी, भूसा और चारे से भी फैलता है। वैज्ञानिक वायरस के प्रसार को रोकने के प्रयास में संक्रमित जानवरों को स्वस्थ लोगों से अलग करने की सलाह दे रहे हैं। हालांकि, भारत में जंगली मवेशियों की समस्या है और वैज्ञानिकों का कहना है कि ये खुले मवेशी भी एलएसडी के तेजी से फैलने का एक कारण हो सकते हैं।

मवेशियों में ढेलेदार त्वचा रोग

इस वर्ष अप्रैल में कच्छ में एलएसडी का पहला मामला सामने आने के बाद से यह बीमारी गुजरात के 33 में से 26 जिलों में फैल चुकी है। इसने गुजरात और राजस्थान में हजारों मवेशियों को संक्रमित किया है।

ढेलेदार त्वचा रोग के लक्षण

एलएसडीवी एक जानवर की परिसंचरण तंत्र पर हमला करता है और यकृत, फेफड़े, प्लीहा, लिम्फ नोड्स आदि जैसे विभिन्न अंगों में वास्कुलिटिस या रक्त वाहिकाओं की सूजन और घावों का कारण बनता है। बदले में, यह त्वचा की बाहरी सतह एपिडर्मिस को त्वचा की आंतरिक परत से अलग करने का कारण बनता है। बुखार, बलगम स्राव में वृद्धि, भूख न लगना आदि अन्य लक्षणों में से हैं। उभरते हुए प्रमाण बताते हैं कि एलएसडी वायरस भैंस, ऊंट, हिरण और घोड़ों में भी हल्की बीमारी का कारण बन सकता है।

ढेलेदार त्वचा रोग उपचार और सरकार की प्रतिक्रिया

गुजरात सरकार प्रकोप के पांच किलोमीटर के दायरे में स्वस्थ मवेशियों के सिर को गॉट पॉक्स वैक्सीन लगाकर उनका टीकाकरण कर रही है। एक बार जब कोई जानवर वायरस से संक्रमित हो जाता है तो इसका कोई विशिष्ट इलाज नहीं होता है और इसलिए टीकाकरण अब तक उपलब्ध सबसे प्रभावी उपकरण है।
पशुपालन विभाग संक्रमित मवेशियों का नि:शुल्क इलाज कर रहा है। सरकार ने शहरी क्षेत्रों में जंगली मवेशियों के लिए आइसोलेशन सेंटर स्थापित करने की सुविधा प्रदान की है और इस मुद्दे को हल करने के लिए एक टास्क फोर्स का गठन किया है।

ढेलेदार त्वचा रोग का टीका

आईसीएआर ने मवेशियों में ढेलेदार त्वचा रोग के लिए एक स्वदेशी टीका विकसित किया है जो पिछले कुछ महीनों में कई राज्यों में फैल गया है। आईसीएआर-राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र (आईसीएआर-एनआरसीई), हिसार (हरियाणा) ने आईसीएआर-भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (आईवीआरआई), इज्जतनगर, उत्तर प्रदेश के सहयोग से एक सजातीय जीवित-क्षीण एलएसडी टीका “लुंपी-प्रोवैकइंड” विकसित किया है। 2019 में ओडिशा में पहली बार एलएसडी रोग की सूचना मिलने के बाद से वैज्ञानिक इस टीके को विकसित करने के प्रयास कर रहे थे।

ढेलेदार त्वचा रोग के टीके की कीमत

वर्तमान में, स्वस्थ मवेशियों के टीकाकरण के लिए गॉट पॉक्स वैक्सीन डोस का उपयोग किया जा रहा है। प्रत्येक टीके की डोस की कीमत लगभग 3 रुपये है।

भारत में ढेलेदार त्वचा रोग – अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  1. भारत में पहली बार किस राज्य में ढेलेदार त्वचा रोग की सूचना मिली थी?
    उत्तर. उड़ीसा
  2. क्या यह केवल गाय और भैंस को प्रभावित करता है?
    उत्तर. नहीं, यह ऊंट, हिरण और घोड़ों में भी हल्की बीमारी पैदा कर सकता है।

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *