Access to All SSC Exams Courses Buy Now
Home Articles निजी क्षेत्र में नौकरी संकट जबकि सरकारी क्षेत्र में अवसर

निजी क्षेत्र में नौकरी संकट जबकि सरकारी क्षेत्र में अवसर

भारत के COVID-19 से जूझने के साथ ही, निजी क्षेत्र के कर्मचारियों को बेरोजगारी का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि लाखों लोग अपनी नौकरी गँवा चुके हैं। क्या सरकारी क्षेत्र में कोई अवसर हैं? चेक करें।

0
176

निजी क्षेत्र में नौकरी संकट जबकि सरकारी क्षेत्र में अवसर??

शहरी क्षेत्रों में बेरोजगारी कई क्षेत्रों के लिए चिंता का विषय बन रही है। यह कहा गया है कि अब और भी खराब समय आने वाला है। आगामी महीनों में बेरोजगारी के बढ़ने की आशंका है, क्योंकि कई कंपनियां अपने कर्मचारियों की छंटनी कर रही हैं। एक प्रतिष्ठित अखबार द्वारा, प्रत्येक क्षेत्र में जाने वाली नौकरियों के डेटा को दर्शाया गया था जिसमें लाखों लोग अपनी नौकरियां खो चुके हैं। नौकरियों के जाने का परिणाम गरीबी संकट हो सकता है, जो हमने पहले कभी नहीं देखा। हालांकि, जिन क्षेत्रों के कम से कम प्रभावित होने की संभावना है, वे टेक या आईटी, एड-टेक और बैंकिंग/ वित्त हैं, जहां नौकरियों के अवसर बढ़ने की संभावना है। आइए COVID से पहले के परिदृश्य और अब तक गंवाई जाने वाली नौकरियों के क्षेत्र-वार आंकड़ों पर एक नजर डालते हैं।

Sector Pre-COVID Employees Job losses due to COVID
Auto Manufacturing 5 million 2-3 Million
Auto dealership 4 million 200,000 & counting
Retail: Organised & Unorganised 46 million 6 million in the next 3 months
Internet Businesses 400,000 80,000-1 lakh
Real estate 70 million 14 million & counting
Travel and tourism 55 million 38 million in the next few months
Restaurants 7.3 million 2 million
Media & Entertainment 6 million 600,000 to 720,000 by June
Steel 2 million 200,000 to 240,000
Education 18 million 3.6-4.5 million
Telecom: Service, Manufacturing 2 million 70,000

 

स्टार्टअप्स में अब तक कुल छंटनी (कुल कर्मचारियों की संख्या के % के साथ) 

COVID-19 के कारण स्टार्टअप सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं। यहां तक कि सरकार के 20 लाख करोड़ के पैकेज से भी स्टार्टअप्स को फायदा होता नहीं दिख रहा है। कई विख्यात स्टार्टअप ने घाटे से निपटने के लिए कर्मचारियों की छंटनी की है। कम लाभ और आय का कोई उचित स्रोत नहीं होने के कारण, कंपनियों द्वारा कर्मचारियों को उचित नोटिस दिए बिना भी कंपनी से निकालने के लिए मजबूर गया है। नीचे भारतीय स्टार्टअप्स की सूची दी गई है, साथ ही कर्मचारियों की कुल संख्या के आधार पर छंटनी किये गए कर्मचारियों को भी दर्शाया गया है।

Startup Employees laid off % of the total
workforce
Ola 1,400 25%
Swiggy 1,100 14%
Sharechat 101 25%
Livspace 450 15%
Zomato 500 13%
Cure Fit 10% of trainers
Blackbuck 200
Udaan 3000
OYO Many employees furloughed
WeWork India 100 20%

 

सरकारी क्षेत्र में अवसर

चूंकि निजी क्षेत्र आगामी वर्षों में संघर्ष करेगा, इसलिए उन लोगों के लिए बहुत सारे अवसर हैं जिन्होंने सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन किया है या आवेदन करने की योजना बना रहे हैं। संभावना है कि सरकार एसएससी और बैंकिंग क्षेत्र में विभिन्न भर्ती अधिसूचनाएं जारी करेगी। महामारी ने दुनिया को एक संकट में डाल दिया है लेकिन इस संकट से निपटने के लिए सरकारी क्षेत्र में अभी भी अवसर है। इसके अलावा, उम्मीदवारों को अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की आवश्यकता होगी क्योंकि आगामी महीनों में प्रतिस्पर्धा बढ़ने की संभावना है, क्योंकि लोग निजी से सरकारी क्षेत्र में शिफ्ट हो रहे हैं। इसलिए प्रिय छात्र, तैयार हो जाएँ और अपनी ड्रीम जॉब पाने के लिए SSC CHSL, IBPS इत्यादि परीक्षाओं की तैयारी शुरू करें।

Click here for Latest government jobs to apply

Get Best Study Material for SSC CGL Tier 2 Exam

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here