अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस: इसके प्रारंभ, तथ्य और सामान्य ज्ञान के साथ इसकी कुछ रोचक जानकारियां

अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस, जिसे अक्सर मई दिवस के रूप में जाना जाता है, मजदूरों और अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक आंदोलन द्वारा प्रचारित श्रमिक वर्ग का उत्सव है । मजदूर वर्ग की उपलब्धियों का जश्न मनाने के लिए हर साल मई के पहले दिन मजदूर दिवस या अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस मनाया जाता है। इस दिन को ‘मई दिवस’ भी कहा जाता है, जिसे कई देशों में सार्वजनिक अवकाश के रूप में मनाया जाता है। 1 मई को शिकागो में हेमार्केट घटना को मनाने के लिए चुना गया था, जो 1886 में हुआ था। इस दिन लोगों ने आठ घंटे काम करने के लिए आम हड़ताल की घोषणा की थी। अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस पर, हम इसकी उत्पति, सामान्य ज्ञान और इस दिन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों पर प्रकाश डाल रहे हैं।
Improve Your Career Skills During Lockdown

अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस का प्रारंभ:

यह सब 1 मई 1886 को शुरू हुआ, जब मजदूरों को आठ घंटे की शिफ्ट में काम करने के लिए संयुक्त राज्य भर में सड़कों पर आ गए। मजदूर दिवस सालाना श्रमिकों की उपलब्धियों का जश्न मनाता है। मजदूर दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य, मजदूर वर्ग में अनुचित व्यवहार के खिलाफ जागरूकता फैलाना है। सभी उम्र के लोग, आम तौर पर जो बहुत गरीब और हाल ही में अप्रवासी थे, वे बेहद असुरक्षित रूप से काम करने को मजबूर थे, उनकी ताजी हवा, स्वच्छता सुविधाओं तक अपर्याप्त पहुँच और काम में कम से कम ब्रेक मिलता था।

अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस: सामान्य ज्ञान

मजदूर दिवस या मई डे को भारत में “अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस‘ या ‘कामगार दिन’ कहा जाता है। इसे अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस या सिर्फ श्रमिक दिवस भी कहा जाता है।

भारत में, पहला मजदूर दिवस या मई दिवस 1923 में मनाया गया था। जब लेबर किसान पार्टी ने चेन्नई (तब मद्रास था) में मई दिवस समारोह का आयोजन किया था। इनमें से एक को ट्रिप्लिकेन बिच में और दूसरे को मद्रास उच्च न्यायालय के सामने समुद्र तट पर आयोजित किया गया था।
मई दिवस को भारत में राष्ट्रव्यापी बैंक और सार्वजनिक अवकाश होता है। महाराष्ट्र और गुजरात में, इसे आधिकारिक रूप से क्रमशः महाराष्ट्र दिवस और गुजरात दिवस कहा जाता है, क्योंकि इस दिन 1960 में पुराने बॉम्बे राज्य के भाषाई आधार पर विभाजित होने के बाद उन्हें राज्य का दर्जा मिला।

अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस: रोचक तथ्य

  • 1887 में, औरिगन, मजदूर दिवस को कानूनी अवकाश देने वाला पहला राज्य था।
  • मजदूर दिवस मूल रूप से अमेरिकी कार्यबल के योगदान को पहचानने के लिए था, और इसका श्रमिक संघ आंदोलन से मजबूत संबंध था। आज, इसे गर्मियों के अंतिम वीकेंड में (अनौपचारिक) जश्न मनाने के अवसर के रूप में देखा जाता है।
  • 19 वीं शताब्दी के दौरान, अमेरिकी मजदूरों के लिए 12 घंटे काम करना आम बात थी। बच्चे अक्सर कारखानों और खानों में काम करते थे, और श्रमिकों का समर्थन करने के लिए कुछ नियम थे। 3 सितंबर, 1916 को, एडम्सन अधिनियम कांग्रेस द्वारा पारित किया गया था, जिसमें आठ घंटे कार्य किया गया।
  • जैसा कि अक्सर लेबर डे को गर्मियों के अनौपचारिक अंत के रूप में देखा गया है, कई उच्च-वर्ग के नागरिक अपने हल्के, सफेद गर्मियों के कपड़े हटा देते है जबकि वे कम और स्कूल पर वापस लौट आते है। इसलिए लेबर डे के बाद नो वाइट की अभिव्यक्ति आई।
  • मजदूर दिवस, चरम पर पहुँचे हॉट डॉग के सीजन के अंत का प्रतीक है। मेमोरियल डे से लेबर डे तक, अमेरिकी लगभग 7 बिलियन हॉट डॉग खाते हैं। मजदूर दिवस के बाद, कई अमेरिकियों के मन में यह पम्पकिन स्पाइस से अधिक घर कर लेता है।
  • 1 मई को महाराष्ट्र दिवस और गुजरात दिवस के रूप में भी मनाया जाता है क्योंकि 1960 में इसी दिन महाराष्ट्र और गुजरात का गठन किया था।

No Work is insignificant. All labour that uplifts humanity has dignity and importance and should be undertaken with painstaking excellence. – Martin Luther King, Jr

×

Download success!

Thanks for downloading the guide. For similar guides, free study material, quizzes, videos and job alerts you can download the Adda247 app from play store.

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×
Login
OR

Forgot Password?

×
Sign Up
OR
Forgot Password
Enter the email address associated with your account, and we'll email you an OTP to verify it's you.


Reset Password
Please enter the OTP sent to
/6


×
CHANGE PASSWORD