Latest SSC jobs   »   General Awareness Notes   »   India’s first voter Master Shyam Saran...

भारत के पहले मतदाता श्याम सरन नेगी का हिमाचल प्रदेश में 106 वर्ष की आयु में निधन

स्वतंत्र भारत के पहले मतदाता मास्टर श्याम सरन नेगी का 5 नवंबर 2022 को हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में निधन हो गया। वह 105 वर्ष के थे। उनका जन्म 1 जुलाई 1917 को कल्पा, रिकांग पिओ में हुआ था। 34वीं बार वोट डालने के तीन दिन बाद भारत के सबसे उम्रदराज मतदाता श्याम सरन नेगी का उनके घर पर निधन हो गया।

भारत के पहले मतदाता (वोटर ) मास्टर श्याम सरन नेगी

मास्टर श्याम सरन नेगी, जो देश के पहले मतदाता बने, ने स्वतंत्र देश में अपना पहला वोट 23 अक्टूबर 1951 को कल्पा मतदान केंद्र में डाला ।उन्होंने इस साल 2 नवंबर 2022 को 34वीं बार वोट डाला जो उनके द्वारा डाला हुआ आखिरी वोट बन गया। जिसकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सराहना की।

स्वतंत्र भारत के पहले मतदाता के निधन पर चुनाव आयोग ने शोक जताया है. आयोग ने कहा, वह न केवल स्वतंत्र भारत के पहले मतदाता थे, बल्कि लोकतंत्र में असाधारण आस्था रखने वाले व्यक्ति थे। उन्होंने लाखों लोगों को वोट देने के लिए प्रेरित किया, और अपने निधन से पहले भी, उन्होंने इस महीने की 2 तारीख को पोस्टल बैलेट( डाक मतपत्र ) के माध्यम से आगामी हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए मतदान किया।

भारत के पहले मतदाता( वोटर) श्याम सरन नेगी का निधन

श्याम सरन नेगी हिमाचल प्रदेश के कल्पा में भारतीय स्कूल शिक्षक थे। उन्होंने 1951 से अपनी मृत्यु तक हर आम चुनाव में मतदान किया और माना जाता है कि वे भारत के सबसे पुराने मतदाता होने के साथ-साथ भारत के पहले मतदाता भी हैं। श्याम सरन नेगी ने हिंदी फिल्म सनम रे में भी विशेष भूमिका निभाई। भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त, नवीन चावला ने 2010 में चुनाव आयोग के हीरक जयंती (डायमंड जुबली) समारोह के उपलक्ष्य में उन्हें सम्मानित करने के लिए नेगी के गांव का दौरा किया।

आप यह भी पढ़ना पसंद कर सकते हैं:

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *