Latest SSC jobs   »   हिंदी दिवस   »   हिंदी दिवस

हिंदी दिवस : इतिहास, महत्व और मजेदार तथ्य

भारत में हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। इस दिन हिंदी भाषा के उत्थान और विकास के लिए कई सेमिनार आयोजित किए जाते हैं। हिंदी दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य देश में लोगों को हिंदी के प्रति जागरूक करना है। हिंदी देवनागरी लिपि में लिखी एक इंडो-आर्यन भाषा है। दुनिया में हिंदी बोलने वालों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। संयोगवश, जिस दिन हिंदी को भारत की आधिकारिक भाषा के रूप में अपनाया गया था, उस दिन व्यौहार राजेन्द्र सिंह का 50 वां जन्मदिन भी था, जिन्हें भारतीय संविधान की मूल फाइनल पांडुलिपि में चित्रण के लिए जाना जाता है।

इतिहास : पहला हिंदी दिवस

14 सितंबर 1953 को पहला आधिकारिक हिंदी दिवस मनाया गया। भारत में लगभग 54.5 करोड़ लोग हिंदी बोलते हैं, जिसमें से लगभग 42.5 करोड़ लोग इसे अपनी पहली भाषा मानते हैं। देश के 77 प्रतिशत लोग हिंदी लिखते, पढ़ते, बोलते और समझते हैं। 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा द्वारा यह निर्णय लिया गया कि हिंदी भारत की आधिकारिक भाषा होगी। इस महत्वपूर्ण निर्णय के महत्व को सामने लाने और हर क्षेत्र में हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए, 14 सितंबर 1953 से, भारत में हर साल हिंदी दिवस मनाया जाता है।

हिंदी दिवस का महत्व:

हर साल, हिंदी दिवस 14 सितंबर को मनाया जाता है ताकि हिंदी को भारत की आधिकारिक भाषा के रूप में अपनाया जा सके। हिंदी दिवस के अवसर पर, भारत के राष्ट्रपति दिल्ली में एक समारोह में, भाषा के प्रति अपने योगदान के लिए लोगों को राजभाषा पुरस्कार प्रदान करते हैं। हमारी संविधान सभा ने देवनागरी लिपि में लिखी गई एक इंडो-आर्यन भाषा -हिंदी को – 14 सितंबर, 1949 को राष्ट्र की आधिकारिक भाषा के रूप में मान्यता दी और अपनाई थी। यह दिवस भारत के स्कूलों, कॉलेजों, कार्यालयों और संगठनों में मनाया जाता है। इस दिन के महत्व को दर्शाने और हमारी मातृभाषा के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए इस दिन हिंदी निबंध लेखन, कविता लेखन और वाचन, पत्र लेखन, और अन्य ऐसी प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। छात्रों और लोगों को साहित्यिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भी भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। 12वीं शताब्दी से हिंदी का साहित्यिक भाषा के रूप में उपयोग किया जाता है। स्वतंत्रता के साथ भारत के संघर्ष के दौरान कई भारतीय नेताओं ने हिंदी को राष्ट्रीय पहचान के प्रतीक के रूप में अपनाया था।

हिंदी दिवस के बारे में रोचक तथ्य:

  • भारत में हिंदी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। देश के लगभग 78% लोग हिंदी बोलते और समझते हैं।
  • हिंदी भाषा इतिहास पर पहला साहित्य एक फ्रांसीसी लेखक “गार्सा द तासी” द्वारा लिखा गया था।
  • 1977 में, पहली बार विदेश मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को हिंदी में संबोधित किया था।
  • “नमस्ते” शब्द हिंदी भाषा में सामान्यतः इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है।
  • हिंदी का पहला वेब पोर्टल 2000 में अस्तित्व में आया, तब से हिंदी ने इंटरनेट पर अपनी पहचान बनाना शुरू किया, जिसने अब गति पकड़ ली है।
  • “Google” के अनुसार, इंटरनेट पर हिंदी सामग्री की मांग पिछले कुछ वर्षों में बहुत बढ़ गई है।
  • हिंदी भारत की उन 7 भाषाओं में से एक है जिसका उपयोग वेब एड्रेस (URL) बनाने के लिए किया जाता है।
  • 1918 में, हिंदी साहित्य सम्मेलन में, महात्मा गांधी ने पहली बार हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने की बात की। गांधीजी ने हिंदी को जनता की भाषा भी कहा।
  • 26 जनवरी 1950 को, संविधान के अनुच्छेद 343 में हिंदी को आधिकारिक भाषा के रूप में मान्यता दी गई।
  • हिंदी दिवस के अवसर पर हर साल 14 सितंबर से 21 सितंबर तक, हिंदी पखवाड़ा या हिंदी सप्ताह मनाया जाता है। इस दिन विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। स्कूल और कार्यालयों में कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इसका मूल उद्देश्य केवल हिंदी दिवस तक इसे सीमित न करके लोगों के बीच हिंदी भाषा के विकास की भावना को बढ़ाना है। इन सात दिनों के दौरान, लोगों को निबंध लेखन और अन्य गतिविधियों के माध्यम से हिंदी भाषा के विकास और इसके उपयोग के लाभों के बारे में समझाया जाता है।
  • हिंदी के प्रति लोगों को प्रेरित करने के लिए हिंदी दिवस पर भाषा सम्मान शुरू किया गया है। यह सम्मान देश के ऐसे व्यक्तित्व को प्रतिवर्ष दिया जाता है, जिन्होंने लोगों के बीच हिंदी भाषा के उपयोग और उत्थान में विशेष योगदान दिया है।
  • Attorney General of India: List, Appointment, Roles and Limitations
  • President Salary In India: Salary and Allowances
  • SSC CGL Salary 

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *