Latest SSC jobs   »   HSSC कैलेण्डर 2021: सब-इन्स्पेक्टर पुरुष महिला...   »   हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (HSSC) नॉर्मलाईजेशन...

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (HSSC) नॉर्मलाईजेशन प्रक्रिया 2021 : जानिए HSSC में कैसे होता हैं नॉर्मलाईजेशन

HSSC Normalization: हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने उम्मीदवार के मार्क्स के मार्किंग के दौरान एचएसएससी(HSSC) द्वारा अपनाई गई नॉर्मलाईजेशन पद्धति के बारे में एक नोटिस जारी किया है। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग हरियाणा सरकार में कुछ ग्रुप बी पदों और सभी ग्रुप सी और डी पदों पर भर्ती के लिए लिखित परीक्षा आयोजित करता है। कई शिफ्ट में आयोजित की जाने वाली परीक्षाओं के मार्किंग के नॉर्मलाईजेशन के पीछे का कारण बड़ी संख्या में परीक्षार्थियों के विभिन्न शिफ्ट के परीक्षा कठिनाई के स्तर को एक समान करना है। विभिन्न शिफ्ट के परीक्षा के पेपर विभिन्न कठिनाई स्तरों के होते हैं और कई बार विभिन्न परीक्षकों द्वारा निर्धारित किए जाते हैं।

इस समस्या को दूर करने के लिए हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने कई-शिफ्ट में आयोजित होने वाली परीक्षाओं के लिए उम्मीदवारों के मार्क्स का नॉर्मलाईजेशन करने का निर्णय लिया है। भारतीय सांख्यिकी संस्थान, दिल्ली की सलाह पर, पर्सेंटाइल पद्धति के आधार पर एक नॉर्मलाईजेशन प्रक्रिया को अपनाया जाएगा। आयोग कई-शिफ्ट परीक्षाओं में उम्मीदवारों के अंतिम मार्क्स की गणना करेगा। उम्मीदवार नीचे दिए गए लिंक से आधिकारिक अधिसूचना पीडीएफ डाउनलोड कर सकते हैं।

Click here to download the HSSC Normalization PDF

पर्सेंटाइल पद्धति(Percentile method)

किसी भी उम्मीदवार के normalized स्कोर को उस शिफ्ट में उम्मीदवार के पर्सेंटाइल के रूप में परिभाषित किया जाता है। ऐसे में किसी भी शिफ्ट में अधिकतम मार्क्स प्राप्त करने वाले व्यक्ति को अधिकतम 100 प्रतिशत अंक प्राप्त होंगे जो वांछनीय है। साथ ही, जिस व्यक्ति ने किसी भी शिफ्ट में सबसे कम अंक प्राप्त किए हैं, उसे 0 अंक दिया जाएगा। प्रत्येक शिफ्ट में उम्मीदवारों की संख्या के आधार पर पर्सेंटाइल की गणना या तो 5 या 6 दशमलव स्थानों तक की जा सकती है। यह अधिक संख्या के प्रभाव को कम करने के लिए किया जाता है और इससे टाई होने की संभावना होती हैं। उदाहरण के लिए, यदि प्रत्येक शिफ्ट में लगभग 20,000 (या 2 x 105) उम्मीदवार हैं, तो 5 दशमलव स्थान पर्याप्त होंगे। दूसरी ओर, यदि प्रत्येक शिफ्ट में उम्मीदवारों की संख्या लाख (106 के गुणज) में है, तो 6 दशमलव स्थानों की सिफारिश की जाती है।

Percentiles की गणना कैसे की जाती हैं?(Calculation of Percentiles)

normalization के बाद पर्सेंटाइल की गणना दो रूपों में की जाएगी जैसा कि नीचे दिया गया है। उम्मीदवार इससे इसकी पद्धति समझ सकते हैं-

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (HSSC) नॉर्मलाईजेशन प्रक्रिया 2021 : जानिए HSSC में कैसे होता हैं नॉर्मलाईजेशन_50.1

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (HSSC) नॉर्मलाईजेशन प्रक्रिया 2021 : जानिए HSSC में कैसे होता हैं नॉर्मलाईजेशन_60.1

You may also like to read this:

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *