Latest SSC jobs   »   हमारे सभी पाठकों को गुरु नानक...   »   हमारे सभी पाठकों को गुरु नानक...

हमारे सभी पाठकों को गुरु नानक जयंती की शुभकामनाएं!

प्रिय पाठकों,

Adda247 की ओर से हमारे सभी पाठकों और अनुयायियों को गुरु नानक जयंती की शुभकामनाएं। यह दिन आपके जीवन में ढेर सारी खुशियां और सफलता लेकर आए। इस दिन को गुरु नानक प्रकाश उत्सव और गुरु नानक गुरुपुरब के रूप में भी जाना जाता है। यह सिख कैलेंडर में सबसे महत्वपूर्ण त्योहार माना जाता है और दुनिया भर में मनाया जाता है। यह उत्सव , प्रार्थना और समारोह का दिन है और यह आमतौर पर पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में मनाया जाता है।

सिख समुदाय में यह त्यौहार दस सिख गुरुओं के जन्म से संबंधित है, जिन्होंने सिखों के अपने विश्वासों को आकार देने में समुदाय की मदद की। बिकारमी कैलेंडर के अनुसार सिख धर्म के संस्थापक, गुरु नानक का जन्म कथक के पूरन माशी पर 1469 में हुआ था। इस दिन को भारत में राजपत्रित अवकाश के रूप में चिह्नित किया जाता है। सिखों के अलावा, हिंदू और गुरु नानक के दर्शन के अन्य अनुयायी भी इस त्योहार को मनाते हैं। हम आपको गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती पर ढेर सारी शुभकामनाएं देते हैं। उनकी शिक्षाओं और उनके अनुयायियों ने हमेशा शांति और समानता फैलाकर मानवता की मदद की है।

गुरु नानक देव जी की महत्वपूर्ण शिक्षाएँ:

1) भगवान एक है:गुरु नानक ने कहा, “मैं न तो हिंदू हूं और न ही मुस्लिम, मैं भगवान का अनुयायी हूं”, जो वास्तव में एक ईश्वर में उनके विश्वास के बारे में बताता है।

2) भगवान की इच्छा (WAHEGURU) के अधीन गुरु नानक ने कहा कि सब कुछ भगवान की कृपा से होता है, और हमें उनके निर्णय का सम्मान करना चाहिए।

3) वह यह भी सिखाते थे-सब के लिए सद्भावना- सरबत दा भल्ला-

4) सत्य बोलना और सत्य के मार्ग पर चलना।

5) तीन सिद्धांत
वंद छको: जरूरतमंदों की मदद करें और हमेशा दूसरों के साथ साझा करें।
किरत करो: ईमानदारी से कमाएं और अपना जीवन जिएं।
नाम जपना: हर समय भगवान का स्मरण करें और उनके नाम का जाप करते रहें।

7) पांच बुराइयों से दूर रहें
गुरुनानक ने अपने अनुयायियों को भ्रम (माया) की ओर ले जाने वाली पांच बुराइयों से दूर रहने के लिए कहा, जो अंततः मोक्ष की प्राप्ति की दिशा में एक बाधा के रूप में कार्य करती है। अहंकार, क्रोध, लोभ, मोह और वासना पांच बुराईयां हैं।

8) कोई भेदभाव नहीं
गुरु नानक कृत्रिम रूप से बनाए गए सभी विभाजनों और शब्द और कर्म दोनों में सभी भेदभावों के सख्त खिलाफ थे। उन्होंने कहा कि किसी व्यक्ति की जाति उसके द्वारा किए गए कार्यों पर आधारित होती है यानी उसके अच्छे या बुरे कर्म।

9)झूठे कर्मकांडों/अंधविश्वासों के खिलाफ थे, जो किसी व्यक्ति के मन में भय पैदा करते हैं।

साथ ही गुरु पर्व के अवसर पर, Adda247, Adda247 फॉलोअर्स को सभी उत्पादों पर 50% की छूट दे रहा है. कूपन कोड का प्रयोग करें: GP50 (शाम 6 बजे से रात 10 बजे तक केवल)

 

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *