लाला लाजपत राय जयंती: जीवनी और स्वतंत्रता संग्राम में योगदान

लीडरऔर भारतीय स्वतंत्रता सेनानी लाला लाजपत राय का जन्म 28 जनवरी 1865 को पंजाब के धुदिके में हुआ था। उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। लाला लाजपत राय पंजाब केसरी और पंजाब के शेर के नाम से लोकप्रिय थे। वह प्रसिद्ध कट्टरपंथी तिकड़ी लाल बाल पाल (लाला लाजपत राय, बाल गंगाधर तिलक और बिपिन चंद्र पाल) का हिस्सा थे, उन्होंने एक साथ भारत में स्वदेशी आंदोलन की वकालत की, जिसमें सभी वस्तुओं के बहिष्कार और भारतीय निर्मित वस्तुओं के उपयोग शामिल थे। साथ ही उन्होंने पंजाब नेशनल बैंक की नींव भी रखी थी।

प्रारंभिक जीवन

लाला लाजपत राय ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा रेवाड़ी, पंजाब प्रांत के एक सरकारी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में प्राप्त की, जहाँ उनके पिता एक उर्दू शिक्षक के रूप में तैनात थे। 1880 में लाजपत राय ने लॉ की पढ़ाई करने के लिए लाहौर के सरकारी कॉलेज में दाखिला लिया, वहाँ पढ़ाई के दौरान वे भविष्य के स्वतंत्रता सेनानियों लाला हंस राज और पंडित गुरु दत्त के संपर्क में आए। वह स्वामी दयानंद सरस्वती के हिंदू सुधारवादी आंदोलन से प्रभावित थे और मौजूदा आर्य समाज लाहौर (1877 में स्थापित) के सदस्य और लाहौर स्थित आर्य गजट के संस्थापक संपादक बने।

1886 में वह अपने परिवार के साथ हिसार चले गए। वहां, उन्होंने राष्ट्रवादी दयानंद एंग्लो-वैदिक स्कूल की स्थापना में मदद की और दयानंद सरस्वती के अनुयायी बन गए। वह 1892 में उच्च न्यायालय के समक्ष कानून का अभ्यास करने के लिए लाहौर चले गए। 1914 में, उन्होंने भारत की स्वतंत्रता के लिए खुद को समर्पित करने के लिए कानून का अभ्यास करना छोड़ दिया।

भारत की स्वतंत्रता में योगदान

1917 में वह अमेरिका चले गए और न्यूयॉर्क में इंडियन होम रूल लीग ऑफ अमेरिका की स्थापना की। वह संयुक्त राज्य अमेरिका में 1917 से 1920 तक रहे। राय 1920 में भारत लौट आए और 1921 में भारतीय कांग्रेस पार्टी के विशेष सत्र का नेतृत्व किया जिसने असहयोग आंदोलन शुरू किया। वह 1921 से 1923 तक कैद में रहे और रिहाई के बाद विधान सभा के लिए निर्वाचित हो गये। 1928 में, साइमन कमीशन की स्थापना की गई थी। भारतीय प्रदर्शनकारियों ने “साइमन वापस जाओ”। इस विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस लाठीचार्ज हुआ था। लाला लाजपत राय पर व्यक्तिगत रूप से हमला किया गया और उन्हें बेरहमी से घायल किया गया, उन्होंने बाद में अपने प्रसिद्ध शब्दों के साथ भीड़ को संबोधित किया और कहा, “I declare that the blows struck at me today will be the last nails in the coffin of British rule in India”

लेखक

एक महान स्वतंत्रता सेनानी और नेता होने के अलावा, लाला लाजपत राय एक प्रख्यात लेखक भी थे। नीचे उनके द्वारा लिखी कुछ किताबें दी गयी हैं:

  • The Story of My Deportation, 1908.
  • Arya Samaj, 1915.
  • The United States of America: A Hindu’s Impression, 1916.
  • The problem of National Education in India, 1920
  • Unhappy India, 1928.
  • England’s Debt to India, 1917.
  • Young India: An Interpretation and a History of the Nationalist Movement from Within.

SSC CGL 2019-20 | Maths | 1000+ Previous Year Questions

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *