Latest SSC jobs   »   Ambedkar Jayanti 2022

अंबेडकर जयंती 2022, इस दिन का महत्त्व

Ambedkar Jayanti

अम्बेडकर जयंती या भीम जयंती 14 अप्रैल को बी. आर. अम्बेडकर की स्मृति में मनाया जाने वाला एक दिन है। अंबेडकर जयंती जुलूस मुंबई के चैत्य भूमि और नागपुर के दीक्षाभूमि में उनके अनुयायियों द्वारा प्रशासित किए जाते हैं। यह दिन डॉ. भीमराव रामजी अंबेडकर के जन्मदिन को चिह्नित करता है जो 14 अप्रैल 1891 को पैदा हुए थे।

Ambedkar Jayanti 2022

अंबेडकर जयंती को न केवल भारत में बल्कि पूरे विश्व में जाना जाता है। अंबेडकर जीवन भर समानता के लिए संघर्ष करते रहे, इसलिए उनके जन्मदिन को भारत में व्यापक रूप से ‘समानता दिवस’ के रूप में जाना जाता है, और इसलिए आज के दिन को “अंतर्राष्ट्रीय समानता दिवस” के रूप में घोषित करने की मांग संयुक्त राष्ट्र में हो रही है।

Click here to check List of Important Days and Dates 2020: National & International Days

उन्होंने अपने जीवन को जातिगत उत्पीड़न और भेदभाव के संघर्ष को समर्पित किया, भारतीय समाज को वर्ग संरचना की बुराइयों के बारे में और अधिक जागरूक बनाया, और इसे और अधिक समावेशी बनाने के लिए काम किया। जिसे संविधान के भीतर स्पष्ट रूप से समझाया गया है। डॉ. अम्बेडकर दलित अधिकारों, शिक्षा और समाज के गरीब वर्ग को दिए जाने वाले सभी समान अधिकारों के लिए दृढ़ रहे हैं।

“मुझे वह धर्म पसंद है जो स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व सिखाता है” – डॉ. बी आर अम्बेडकर

Ambedkar Jayanti 2022

14 अप्रैल 2022 को बी.आर.अंबेडकर जयंती संविधान के पिता की 131वीं जयंती है। डॉ. अम्बेडकर की 131वीं जयंती के अवसर पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने देशवासियों को बधाई दी और भारतीय संविधान के निर्माता की सराहना की।

महाराष्ट्र सरकार ने केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले की उपस्थिति में लातूर शहर में डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर की जयंती पर उनकी 72 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया है। राज्य सरकार ने प्रतिमा का नाम ‘स्टैच्यू ऑफ नॉलेज’ रखा।

ADDA247 भारत रत्न डॉ. भीमराव अंबेडकर को उनकी जन्मदिवस पर विनम्र श्रद्धांजलि देता हैं।

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.
Was this page helpful?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *